Home > राष्ट्रीय > तनिष्क के विज्ञापन पर बोली जनर्लिस्ट आस्था कौशिक, “धर्म का तड़का लगाना आग से खेलने जैसा है और..

तनिष्क के विज्ञापन पर बोली जनर्लिस्ट आस्था कौशिक, “धर्म का तड़का लगाना आग से खेलने जैसा है और..

तनिष्क के विज्ञापन को लेकर विवाद इतना गहरा गया कि बहिष्कार के बाद तनिष्क जैसे मशहूर ज्वेलरी ब्रांड को सफाई देनी पड़ी और कंपनी ने अपना एड भी यूट्यूब से हटा लिया। तनिष्क ने लिखित रूप में इस कृत्य के लिए खेद प्रकट किया है। दरअसल देश मे जहा एक तरफ मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक की प्रताड़ना से बचाने के लिए कानून बनाना पड़ता है और उस कानून का बहिष्कार करने के लिए देशभर के कटरपंथी सड़क पर उतर जाते है। और दूसरी तरफ तनिष्क ज्वेलर्स मुस्लिम परिवार में खुशहाल हिन्दू लड़की को दिखाकर लव जिहाद को बढ़ावा देने का विज्ञापन करता है।

तनिष्क के इस विज्ञापन को लेकर ABP न्यूज़ की जर्नलिस्ट आस्था कौशिक ने बहुत बेहतरीन बात कही। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “समझ नहीं आता व्यापार में ‘घर्म’ को लाने की ज़रूरत ही क्या है! क्या इससे मुनाफ़ा ज्यादा हो जाएगा? कंपनी के लिए केवल ‘कंज्यूमर’ होता है,जिनके लिए प्रोडक्ट बनता है।अब उसके प्रचार में ‘धर्म’ का तड़का लगाना,आग से खेलने जैसा है। #tanishq जैसी नामी कंपनी ने न जाने ऐसा जोखिम क्यों लिया।”

आस्था कौशिक ने एक दूसरी ट्वीट की और लिखा, “इस विवादास्पद एड से #tanishq त्योहारी मौसम में सीधे सिक्सर लगाना चाहता था,लेकिन लगता है हिट-विकेट हो गया! इस तरह का ‘एकत्वम्’ जनता को रास नहीं आया और सोशल मीडिया पर #BycottTanishq का ट्रेंड चल पड़ा।प्रेशर में आकर तनिष्क ने ये एड हटा लिया है,अब देखना होगा सेल पर क्या असर होता है!”

जानिये क्या है तनिष्क के विज्ञापन में
तनिष्क के इस विज्ञापन में एक हिंदू महिला को दिखाया गया है, जिसकी मुस्लिम परिवार में शादी हुई है। वीडियो में इस महिला का गोदभराई का का फंक्शन दिखाया गया है। दूसरी तरफ मुस्लिम परिवार बड़े ही प्यार से हिंदू कल्चर के हिसाब से सभी रस्मों को करता है। अंत में प्रेग्नेंट महिला अपनी सास से पूछती है, “मां ये रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं है न?” इस पर उसकी सास जवाब देती है, “पर बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न?”