Home > राष्ट्रीय > बॉलीवुड को एक और झटका- फरहान अख्तर की फ़िल्म ‘तूफान’ बुरी तरह फ्लॉप…

बॉलीवुड को एक और झटका- फरहान अख्तर की फ़िल्म ‘तूफान’ बुरी तरह फ्लॉप…

फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) बॉलीवुड अभिनेता जावेद अख्तर (Javed Akhtar) के पुत्र हैं। जावेद अख्तर को उनके बेबाक अंदाज के लिए भी जाना जाता है। उन्हीं की राहों पर चलते हुए फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) ने भी देश में CAA–NRC लागू होने पर असहमति दिखा रहे थे। इससे पहले फरहान अख्तर राकेश ओमप्रकाश मेहरा (Rakesh Omprakash Mehra) के साथ मिलकर भाग मिल्खा भाग फिल्म में अभिनय किया था। भाग मिल्खा भाग फिल्म भारत के फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह के जीवन पर आधारित थी। फरहान अख्तर की नई फिल्म तूफान भी एक खेल पर आधारित है फिल्म ऐसी है जिसे देखकर आप थोड़ी ही देर में थकान महसूस करने लगेंगे। तूफान फिल्म में जिस व्यक्ति का किरदार फरहान अख्तर निभा रहे हैं उनका नाम अजीज अली है जो एक बॉक्सर है।

तूफान (Toofan) फिल्म (Film) में अजीत (Ajeet) को अज्जू भाई नाम से भी बुलाते हैं। अज्जू भाई डोंगरी का एक गैं गस्टर होता है जो कि खुद को एक बहुत मशहूर बॉक्सर (Boxer) के रूप में देखता है अज्जू भाई को कभी भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं मिलता है। फिल्म देख चुके व्यूअर्स फिल्म के बारे में बताते हुए कहते हैं कि तूफान फिल्म के बारे में हमने जैसा सोचा था वैसी नहीं है यह एक उबासी भरी कहानी है। उबासी भरी इसलिए क्योंकि यह फिल्म इतनी लंबी है कि आप देखते देखते बोर हो कर थक जाएंगे।

फिल्म के क्लाइमैक्स में आपको एक बहुत बड़ा ट्विस्ट देखने को मिलेगा। ट्विस्ट के रूप में परेश रावल अपने किरदार में फिट नहीं बैठ रहे हैं। परेश रावल की शक्ल देख कर आप यह अंदाजा लगा सकते हैं कि आगे क्या होने वाला है। फिल्म में अजीत अली का अपना एक बीता हुआ कल है। उस अतीत में मुक्केबाज अजीज अली (Ajij ali) और अनन्या (Ananya) एक दूसरे को बेहद पसंद करते हैं। फिल्म में अनन्या (मृणाल ठाकुर) को कुछ ही सींस मिले हैं। जिसके बाद पूरी फिल्म में अनन्या को अजीज के ऊपर निर्भर दिखाया है।

तूफान फिल्म (Toofan Film) में कई रूढ़ीवादी चीजों को प्रदर्शित किया गया है। जैसे कि अगर कोई महिला है तो वह सिर्फ कथकली डांस ही कर सकती है, या फिर अगर कोई महिला साउथ से है तो वह अंग्रेजी के साथ टूटी-फूटी हिंदी बोलेगी। यह जरूरी तो नहीं है कि साउथ है तो अच्छे से हिन्दी नहीं बोल सकती। फिल्म को काफी पुराने कांसेप्ट के आधार पर दर्शाया गया है। यही वजह है कि यह फिल्म दर्शकों के दिलों पर राज करने में असक्षम है।