You are here
Home > Politics

सवर्णो के वोट की चिंता सत्ता रही सबको, मायावती बोली – गरीब तबके के लिए 10 फीसदी आरक्षण विधेयक को देगी समर्थन लेकिन ये चुनावी स्टंट है

मायावती ने कहा कि वह इस विधेयक का समर्थन करेंगी क्योंकि उनकी पार्टी पहले से ही आरक्षण की मांग करती आई है। बीएसपी चीफ ने यह भी कहा कि एससी-एसटी वर्ग की 50 फीसदी आरक्षण सीमा को भी उनकी आबादी को देखते हुए बढ़ाने पर विचार किया जाना चाहिए। साथ ही जिन क्षेत्रों में अभी तक आरक्षण की कोई व्यवस्था नहीं है, वहां भी इसे लागू करना चाहिए।

बता दें कि सोमवार को केंद्र सरकार ने कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में 10 फीसदी आरक्षण देने का ऐलान किया। मोदी कैबिनेट ने 8 लाख से कम आय के वर्ग के लोगों के लिए नौकरियों और शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण की घोषणा की थी।

लोकसभा में आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10 फीसद आरक्षण देने की घोषणा के बाद मंगलवार (8 जनवरी) शाम को इस पर बहस शुरू हुई। रात 9:45 तक संविधान संशोधन विधेयक पर चर्चा होने के बाद रात तकरीबन 10 बजे इस पर वोटिंग कराई गई। विधेयक को 3 के मुकाबले 323 वोटों से पारित कर दिया गया।

अब इस विधेयक को राज्‍यसभा में पेश किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक आरक्षण का कोटा मौजूदा 49.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 59.5 प्रतिशत किया जाएगा। इसमें से 10 फीसदी कोटा आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए होगा। बता दें कि लंबे समय से आर्थिक रूप से पिछड़े सामान्य वर्ग के लिए आरक्षण की मांग की जा रही थी।

इसके अलावा राज्यसभा का सत्र भी एक दिन यानी 9 जनवरी तक के लिए बढ़ा दिया गया है। अब इस विधेयक को राज्‍यसभा में पेश किया जाएगा। ऐसे में आने वाले दो दिन राजनीतिक गहमागहमी वाले साबित हो सकते हैं। इस बाबत बीजेपी ने अपने सभी सांसदों को मौजूद रहने के लिए विप जारी किया है। यही नहीं विपक्षी दल कांग्रेस ने भी सांसदों से मौजूदगी के लिए कहा है।

Loading...

Leave a Reply

Top