You are here
Home > Politics

UP में गठबंधन फॉर्मूला : माया-अखिलेश ने राहुल को दिखाई औकात, कांग्रेस लिए छोड़ेंगे मात्र इतनी सीटें..

2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) यूपी में गैर-यादव और गैर-जाटव वोटर्स को लुभाने की भी कोशिश में हैं। ऐसे में उन्होंने अपने गठबंधन में शामिल होने वाले गैर-जातीय दलों के लिए भी जगह रखने का फैसला किया है। इस संबंध में सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को दिल्ली में मीटिंग भी की थी।

इस तरह हुआ सीटों का बंटवारा : सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में दोनों दलों के नेताओं ने छोटी पार्टियों के लिए भी 2 सीटें अलग रखने पर सहमति जताई। इसके तहत यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से 37 पर बसपा और 37 पर सपा चुनाव लड़ेगी। वहीं, 6 सीटें सहयोगी दलों के लिए रखी गई हैं, जिनमें 2-2 सीटें राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) और कांग्रेस के खाते में रहेंगी।

15 जनवरी के बाद होगी सीटों की घोषणा : सूत्रों के मुताबिक, शुक्रवार को दिल्ली में हुई बैठक में अखिलेश और माया के बीच सारी बातें तय हो चुकी हैं। हालांकि, इसकी औपचारिक घोषणा 15 जनवरी के बाद ही की जाएगी। फिलहाल दोनों दलों ने अपने गठबंधन में कांग्रेस को शामिल न करने की बात कही है। सूत्रों का कहना है कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने यूपी में एनडीए के सहयोगी दल सुहेलदेव समाज पार्टी (एसबीएसपी) के लिए भी एक सीट रखने का फैसला किया है। अगर उपयुक्त प्रत्याशी नहीं मिलता है तो एक सीट किसी अन्य छोटी पार्टी या आरएलडी को दी जा सकती है।

BJP के खिलाफ दिख रही SBSP : बता दें कि मोदी और योगी सरकार के खिलाफ सुहेलदेव समाज पार्टी लगातार खुलकर अपनी बात रख रही है। विकास के मुद्दे पर बात करने पर एसबीएसपी के प्रमुख महासचिव अरविंद राजभर कहते हैं, ‘‘हमारे लिए सभी विकल्प खुले हुए हैं।’’ सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि दोनों दलों के बीच शुक्रवार को दिल्ली में बैठक हुई। इसमें तय हुआ कि दोनों पार्टियां लोकसभा चुनाव के दौरान यूपी में साथ मिलकर लड़ेंगी। हालांकि, सीटों के बंटवारे पर फैसला आगामी बैठकों में किया जाएगा।

Loading...

Leave a Reply

Top