Home > राष्ट्रीय > कुकर में फस गया था बच्चे का सिर, 2 घंटे तक कड़ी मशक्कत करने के बाद डॉक्टरों ने बाहर निकाला

कुकर में फस गया था बच्चे का सिर, 2 घंटे तक कड़ी मशक्कत करने के बाद डॉक्टरों ने बाहर निकाला

अक्सर घर में बच्चे खेलते खेलते ऐसी मुसीबत मोल ले लेते हैं जिसके बाद वह मुसीबत बड़ी दुर्घटना का रूप ले लेती है। आए दिन घर में बच्चों के साथ होने वाली दुर्घटनाओं की खबरें सुनाई देती है। कई वीडियोस ऐसे वायरल होते हैं जिनमें हम देख पाते हैं कि बच्चे घर में किसी ना किसी मुसीबत का शिकार हो जाते हैं। इसी प्रकार की एक खबर उत्तर प्रदेश के मथुरा से आई है जहां पर डेढ़ साल के बच्चे ने प्रेशर कुकर में गलती से अपना सिर फंसा लिया।

घटना बीते शुक्रवार की बताई जा रही है उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में रहने वाला एक डेढ़ साल का बच्चा अपनी मां के साथ आगरा अपने ननिहाल गया हुआ था। बच्चा घर में सुबह के समय रसोईघर के बर्तनों के साथ खेल रहा था। खेलते खेलते उसने अपने हाथ में प्रेशर कुकर उठाया और उसे अपने सिर पर रख दिया। बच्चे का सिर प्रेशर कुकर के अंदर तो घुस गया परंतु बाहर निकालने में उस बच्चे को काफी दिक्कत होने लगी। जैसे ही सिर पीर प्रेशर कुकर में फस गया बच्चा रोने और चिल्लाने लगा।

इसी दौरान बच्चे की मां और परिवार के अन्य सदस्य भी बच्चे को चिल्लाता हुआ देख अचानक वहां पर आ पहुंचे और देखते हैं तो क्या! बच्चे का सिर प्रेशर कुकर में बुरी तरह से फंस गया है। पहले परिवार के लोगों ने बच्चे का सिर प्रेशर कुकर में से बाहर निकालने का बहुत प्रयास किया परंतु सारे प्रयास विफल होने के बाद वह उसे तुरंत अस्पताल में डॉक्टर के पास ले कर जा पहुंचे।

डॉक्टर ने भी तुरंत बच्चे की हालत देखते हुए जल्द से जल्द ऑपरेशन करके बच्चे का सिर प्रेशर कुकर से बाहर निकालने की मशक्कत शुरू कर दी। सामान्य तरीके से जब बच्चे का सिर प्रेशर कुकर से बाहर नहीं निकला तो डॉक्टर ने प्रेशर कुकर को ग्राइंडर से काटने का निर्णय किया। जैसे ही प्रेशर कुकर को ग्राइंडर से काटा जा रहा था तो उसकी आवाज से बच्चा और ज्यादा डर गया और जोर जोर से रोने लगा। प्रेशर कुकर को ग्राइंडर से काटते समय काफी रिस्क प्रतीत हो रहा था। परंतु डॉक्टर ने बड़ी ही सावधानी बरतते हुए प्रेशर कुकर को काट दिया और तब जाकर बच्चे का सिर प्रेशर कुकर से बाहर निकल पाया। इस ऑपरेशन को करने में करीब 2 घंटे का समय लगा जिसके बाद अब बच्चा पूर्ण रूप से सुरक्षित है।