You are here
Home > Politics

‘मेट्रो मैन’ ने केजरीवाल के फ्री वाले फैसले पर कही ऐसी बात नहीं कर पाएंगे यकीन !

दिल्ली मेट्रो के पहले प्रबंध निदेशक ई श्रीधरन ने केजरीवाल सरकार की मेट्रो में महिलाओं को मुफ़्त यात्रा सुविधा देने की पहल को नुक़सानदायक बताया है. उन्‍होंने इसकी जगह सब्सिडी की राशि सीधे उनके हाथो में नहीं बल्कि महिलाओं के बैंक खाते में जमा करने का सुझाव दिया है.

‘मेट्रो मैन’ के नाम से विख्यात श्रीधरन ने 10 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर केजरीवाल सरकार के प्रस्ताव पर नाख़ुशी जाहिर की है. सूत्रों के अनुसार श्रीधरन ने पत्र में कहा है कि अगर सरकार वास्तव में किसी को मुफ़्त यात्रा सुविधा देने के लिए कोई उपाय करना चाहती है तो इसके लिए मेट्रो की मौजूदा प्रणाली में कोई परिवर्तन न किया करवाना चाहिए . बल्कि इसकी जगह लाभार्थी को उसकी धन राशि सीधे उसके हाथ मै नहीं बल्कि उसके बैंक खाते में देना (डीबीटी) बेहतर उपाय होगा

उद्घाटन के समय ख़ुद अटल जी ने खरीदा था टिकट
उन्‍होंने कहा, ‘मेट्रो के व्यवस्थित तंत्र को बनाए रखने के लिए 2002 में मेट्रो सेवा शुरू होने के समय ही हमने किसी तरह की सब्सिडी नहीं देने का सैद्धांतिक फ़ैसला किया था. और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भी इसकी प्रशंसा तथा इसकी तारीफे की थी की थी. इतना ही नहीं अटल जी ने भी उद्घाटन के समय ख़ुद टिकट ख़रीदकर उन्होने मेट्रो यात्रा कर इस बात का संदेश दिया था कि मेट्रो सेवा की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए ऐसा किया जाना ज़रूरी है.’और सही भी होगा

विदेशी एजेंसियों को कर्ज अदा करने में होगी दिक्‍कत
श्रीधरन ने दलील दी कि सब्सिडी देने की परंपरा से मेट्रो प्रबंधन द्वारा विदेशी एजेंसियों से लिया गया क़र्ज़ अदा करना बहुत मुश्किल होगा. उन्होंने कहा कि दिल्ली मेट्रो की इस प्रतिबद्धता का पालन देश के अन्य शहरों की मेट्रो सेवा द्वारा भी किया जा रहा है. अगर दिल्ली में मुफ़्त यात्रा सेवा शुरू होगी तो ऐसी मांग अन्य शहरों में भी उठेगी.और वह भी इसी प्रकार से मांग करेंगे और आवाजें उठाएँगे इतनी सेवा आसानी से उपलब्ध नहीं हो पाएगी A

Loading...

Leave a Reply

Top