You are here
Home > Politics

DL और RC नहीं रहने पर तत्काल चालान नहीं काट सकती है ट्रैफिक पुलिस, जानिए यह है नया मोटर व्हीकल एक्ट!

नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद से लोगों में खलबली मची है. कई जगह से ताबड़तोड़ चलान काटने की खबर सामने आ रही है. कई जगह तो जितनी गाड़ी की कीमत है उस से कहीं ज्यादा का चलान काटा गया है.

आरसी, इंश्योरेंस सर्टीफिकेट, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस और परमिट सर्टिफिकेट तत्काल नहीं दिखाने पर पूरे देश से चालान करने की खबरें आ रही हैं. पर क्या आपको पता है कि इस नए रूल में यदि आप ट्रैफिक पुलिस को मांगने पर तुरंत आरसी, इंश्योरेंस सर्टिफिकेट, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस और परमिट सर्टिफिकेट नहीं दिखाते हैं, तो ट्रैफिक पुलिस तुरंत आपका चालान नहीं काट सकती है.

नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद से वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी), इंश्योरेंस पॉलिसी, प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस और परमिट आदि नहीं दिखने पर चालान करने खबरें आ रही हैं.

सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स के नियम 139 में प्रावधान किया गया है कि वाहन चालक को दस्तावेजों को पेश करने के लिए 15 दिन का समय दिया जाएगा. ट्रैफिक पुलिस तत्काल उसका चालान नहीं काट सकती.

अगर ट्रैफिक पुलिस गलत तरीके से आपका चालान काटती है, तो इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आपको चालान भरना ही पड़ेगा. ट्रैफिक पुलिस का चालान कोर्ट का आदेश नहीं है. इसे कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है..

अगर कोर्ट को लगता है कि आपके पास सभी दस्तावेज हैं और आपको इसे पेश करने के लिए 15 दिन का समय नहीं दिया गया, तो वह जुर्माना माफ कर सकता है. इसका मतलब यह हुआ कि अगर आप 15 दिन में इन दस्तावेजों को दिखाने का दावा करें, तो ट्रैफिक पुलिस या आरटीओ अधिकारी आपके वाहन का चालान नहीं काटेंगे. इसके बाद आपको 15 दिन के अंदर इन दस्तावेजों को संबंधित ट्रैफिक पुलिस या अधिकारी को दिखाना होगा.

Loading...

Leave a Reply

Top