Home > राष्ट्रीय > Video: किसानों के धरना स्थल ‘सिंघु बॉर्डर’ पहुंचे कई गांवों के लोग, बोले- जल्द से जल्द खाली करो बॉर्डर

Video: किसानों के धरना स्थल ‘सिंघु बॉर्डर’ पहुंचे कई गांवों के लोग, बोले- जल्द से जल्द खाली करो बॉर्डर

ट 2021

दुनिया

शिक्षा

Vishwash News

मनोरंजन

जॉब्स

टेक ज्ञान

लाइफस्टाइल

बिजनेस

पॉलिटिक्स

क्रिकेट

फोटो गैलरी

ऑटो

आम मुद्दे

कैरियर

जोक्स

Book Ad
Video: जगह खाली करो की नारेबाजी करते हुए सिंघु बॉर्डर पहुंचे बड़ी संख्या में स्थानीय लोग
newimg/28012021/28_01_2021-singhu_border_21314043_142814221.jpg
ग्रामीण धरना दे रहे किसानों के खिलाफ नारेबाजी भी कर रहे हैं।
दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (सिंघु बॉर्डर) पर बृहस्पतिवार को बड़ी संख्या में ग्रामीण इकट्ठा हो गए हैं। लोगों की मांग है कि बॉर्डर को जल्द से जल्द आंदोलनकारी खत्म कर दें। ग्रामीण धरना दे रहे किसानों के खिलाफ नारेबाजी भी कर रहे हैं।

Publish Date:Thu, 28 Jan 2021 02:05 PM (IST)Author: Mangal Yadav
नई दिल्ली, जेएनएन/ एएनआइ। दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा के बाद लोगों का आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (सिंघु बॉर्डर) पर बृहस्पतिवार को बड़ी संख्या में ग्रामीण इकट्ठा हो गए हैं। लोगों की मांग है कि बॉर्डर को जल्द से जल्द आंदोलनकारी खाली कर दें। सिंघु बॉर्डर पर ‘खाली करो जगह’ की नारेबाजी हो रही है। आंदोलनकारियों के बीच पहुंचे स्थानीय लोग तिरंगा लिए हुए हैं और लगातार नारेबाजी कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि धरना दे रहे लोगों की वजह से उन्हें भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

खबर के मुताबिक ग्रामीणों ने धरना दे रहे तथाकथित किसानों को चेतावनी दी है कि अगर इस जगह (दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर) को खाली नहीं किया गया तो वे शुक्रवार को फिर से यहां हजारों की संख्या में आएंगे। किसानों ने कहा कि 26 जनवरी की घटना बर्दाश्त नहीं है। अभी तक इन लोगों को किसान समझ रहे थे लेकिन अब साफ हो गया है कि ये लोग देश के गद्दार हैं।

बताया जा रहा है कि सिंघु बॉर्डर खाली करने की मांग को लेकर पहुंचने वालों में स्थानीय दुकानदार भी शामिल हैं। इन लोगों ने तख्ती पर ‘सिंघु बॉर्डर खाली करो’ के नारे के साथ तिरंगा भी हाथ में लिए हुए हैं। बता दें कि सिंघु बॉर्डर पर किसानों का धरना करीब दो महीने से चल रहा है। इसकी वजह से दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर आवागमन प्रभावित है। जबकि दुकानदारों के सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है।

दरअसल दिल्ली की सीमा का चल रहा आंदोलन आम जनता के लिए पहले से परेशानी का सबब बना हुआ था। इसके बाद लोगो का कहना है कि 26 जनवरी को लाल किले पर केसरिया रंग का झंडा लगाकर उपद्रवियों ने देश पर कलंक लगा दिया है। इससे देश का हर व्यक्ति परेशान और नाराज दिखाई दे रहा है। लोगों का कहना है कि ऐसा नहीं होना चाहिए था। इससे देश के हर व्यक्ति को ठेस पहुंची है। हर व्यक्ति अपने सोशल मीडिया पर इसको लेकर कमेंट्स कर रहा है।