Home > राष्ट्रीय > सोनू सूद के झूठ लगातार हो रहे उजागर: फर्जी रोगी, फर्जी हॉस्पिटल और मदद के नाम पर झूठी पोस्ट

सोनू सूद के झूठ लगातार हो रहे उजागर: फर्जी रोगी, फर्जी हॉस्पिटल और मदद के नाम पर झूठी पोस्ट

पिछले वर्ष 2020 में कोरोना महामारी के चलते हुए लॉकडाउन के दौरान अभिनेता सोनू सूद ने कई प्रवासी मजदूरों और जरूरतमंदों की मदद की थी। वो मजदूरों को लॉकडाउन के दौरान उनके घर तक बड़े शहरों से उनके घर तक पहुचाने का बंदोबस्त किया था। सोनू सूद द्वारा मदद का ये सिलसिला आज भी लगातार जारी है। लेकिन अब कई लोगों उनपर उंगली भी उठा यह है। इसके पीछे की वजह है कुछ सोशल मीडिया पोस्ट जिसे देखकर लोगों को उनपर संदेह होने लगा है।

सोशल मीडिया पर के यूजर्स कुछ दिनों से सोनू सूद पर फेक मदद करने का आरोप लगा रहे है। इसी कड़ी में जानेमाने फिल्म निर्माता मनीष मुंद्रा ने भी एक सोनू सूद को लेकर एक पोस्ट किया है। जिसमे उन्होंने सोनू सूद पर सवाल उठाया है। शुक्रवार को, उन्होंने एक पोस्ट का जवाब दिया जिसमें सोनू ने एक नेटिजन को आठ मिनट में ऑक्सीजन की आपूर्ति का आश्वासन दिया।

मनीष मुंद्रा ने फैक्ट नाम के एक ट्विटर यूजर का एक पोस्ट शेयर किया है जिसमें लिखा है कि आठ मिनट में ट्वीट भी पढ़ लिया। ऑक्सीजन की व्यवस्था भी कर दी और टीम ऑक्सीजन लेकर निकल भी गई। इस पोस्ट को शेयर करते हुए मनीष मुंद्रा ने लिखा है कि “कभी कभी सोचता हूं..यह सब क्यूं करना पड़ता है किसी को? क्या मिलेगा इन सब से??”

इसी क्रम में ओडिशा के गंजम जिले के जिला अधिकारी के एक ट्वीट सोनू सूद की मदद कि पोल ट्विटर पर फ़ौरन खोल दी है। दरअसल, ‘PradipB20877452’ नाम के एक ट्विटर अकाउंट ने 14 मई, 2021 को ट्विटर पर सोनू सूद को टैग करते हुए लिखा था, “सर मैंने बहुत कोशिश की लेकिन मुझे ना ही ब्रह्मपुर, ना ही भुवनेश्वर में एक बेड मिल पाया। कृपया मेरी पत्नी के लिए एक बिस्तर का इंतजाम कर दीजिए। उसकी स्थिति लगातार खराब हो रही है। मैं आपसे विनती कर रहा हूँ कृपया मेरी मदद करो। प्रदीप बेहरा, ओडिशा।”

15 मई, 2021 को सोनू सूद ने इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, “घबराने की जरूरत नहीं है। गंजम शहर, बेरहामपुर (DCHC) में बिस्तर का इंतजाम हो गया है।”

इस प्रकरण को देखते हुए गंजम के जिला अधिकारी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से 17 मई, 2021 को एक ट्वीट कर स्पष्ट किया कि उन्हें इस सम्बन्ध में सोनू सूद या फिर सोनू सूद फाउंडेशन की ओर से किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त नहीं हुई है। जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि यह मरीज होम आइसोलेशन में है और उनकी हालत एकदम स्थिर है साथ ही, ब्रह्मपुर में बिस्तर की समस्या है ही नहीं।

गंजम जिलाधिकारी द्वारा किए गए इस ट्वीट के फ़ौरन बाद सोनू सूद को ट्वीट करने वाले अकाउंट ने अपना ट्वीट भी डिलीट कर दिया।

इन पोस्ट के अलावे सोनू सूद की मदद वाले कार्य को लेकर सोशल में एक और पोस्ट चर्चा का विषय बना हुआ, जिसमें यूजर ने दावा किया है कि सोनू सूद का ‘खुलासा’ हो गया है। मोनिका नाम की यूजर ने दिल्ली ने दिल्ली के एक अस्पताल में तत्काल एबी + प्लाज्मा रक्त की आवश्यकता के बारे में एक पोस्ट बनाया। एक दिन से अधिक समय के बाद, अभिनेता ने जवाब दिया कि ‘प्लाज्मा डिलीवर हो गया है’।

हालांकि, उसी व्यक्ति ने खुलासा किया कि उसने यह देखने के लिए एक नकली अनुरोध किया था कि क्या वह इसके लिए काम करेंगे। यूजर ने बताया कि सोनू सूद की यह सूचना सही नहीं थी। इस दौरान उसने लिखा कि पिछली बार वो ‘उत्साहित’ थी, लेकिन अब उससे ‘इस घोटाले को रोकने’ और ‘नकली अनुरोध’ न करने का आग्रह किया।