You are here
Home > Politics

सवर्णो को 10% आरक्षण देने के फैसले पर तेजस्वी यादव ने सरकार से मांगी सफाई, बोले- 90% आरक्षण हर हाल में अन्य को..

सोमवार को मोदी सरकार ने कैबिनेट बैठक में एक अहम् फैसला लिया, सरकार ने सवर्ण जातियों के लिए 10 फीसदी आरक्षण देने का फैसला लिया, ये आरक्षण आर्थिक रूप से पिछड़े स्वर्णो को दिया जायेगा! जिससे उनकी स्थिति में सुधार लाई जा सके! माना जा रहा है कि मंगलवार को मोदी सरकार संविधान संशोधन बिल संसद में पेश कर सकती है! बता दें कि मंगलवार को ही संसद के शीतकालीन सत्र का आखिरी दिन है!

सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले के विरोध में कुछ नेता खुलकर सामने आ गए है, इसी कड़ी में राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी भी है! अब लालू प्रशाद यादव और उनके बेटो की राजनीती से देश की जनता भली भांति वाकिफ है, ये वही लोग है जो बिहार में एम-वाई के कॉम्बिनेशन को प्राथमिकता देकर राजनिति करते आये है! लेकिन अब जब किसी सरकार ने अगड़ी जातियों के गरीब लोगो के बारे में एक अनिवार्य और महत्वपूर्ण फैसला लिया है तो ये नेता अपने फायदे के लिए आंकड़ों का गणित समझा रहे है!

तेजस्वी यादव ने इन आकड़ो के वजाय अगर आमिर दलित और SC-ST के आरक्षण को ख़त्म करने की बात कही होती तो आज पूरा देश उनका साथ देता और उनकी छवि एक युवा नेता के रूप में लोगों के बिच उभरती, लेकिन ये सब तो इन्हे शायद सिखाया ही नहीं गया, बस इन्हे यही पता है की किस तरह अपनी राजनिति को चमकाना है चाहे उससे किसी गरीब का कितना भी नुकशान क्यों न हो!

आज जब मोदी सरकार ने गरीब सवर्णो को 10 % आरक्षण देने का फैसला लिया तो इन्होने इस पहल की समर्थन करने के वजाय विरोध करना शुरू कर दिया! इस फैसले के विरोध में तेजस्वी यादव ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा:-

“अगर 15 फ़ीसदी आबादी को 10% आरक्षण तो फिर 85 फ़ीसदी आबादी को 90% आरक्षण हर हाल में मिलना चाहिए।

10% आरक्षण किस आयोग और सर्वेक्षण की रिपोर्ट के आधार पर दिया जा रहा है? सरकार विस्तार से बतायें।”

ऐसे विचार रखने वालो को जनता खाशकर स्वर्ण गरीब कभी माफ़ नहीं करेगा! ये वही लोग है जो अपने फायदे के लिए दलित सावर्ड की राजनीती करते है और जब कोई पार्टी सवर्णो के हित में कोई काम करती है तो आलोचना करने का एक भी मौका नहीं छोड़ते है!

Loading...

Leave a Reply

Top