Home > राष्ट्रीय > बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन की मौत की खबर नही है अफवाह, तिहाड़ जेल ने की पुष्टि।

बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन की मौत की खबर नही है अफवाह, तिहाड़ जेल ने की पुष्टि।

New Delhi: आज सुबह खबर आई कि बिहार के सीवान से सांसद रह चुके आर जे डी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना से निधन हो गया। लेकिन खबर आने के 1 घंटे बाद ही मीडिया में ऐसी खबर चलने लगी कि वो कोमा में है और उनकी निधन की खबर अफवाह मात्र है। बहुत सारे न्यूज़ चनल और समाचार पोर्टल ने कहा था कि तिहार जेल की तरफ से अभी तक इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नही हुई है।

लेकिन अब जो जो जानकारी प्राप्त हुई है वह तिहार जेल के DG की तरफ से अधिकारिक तौर पर शहाबुद्दीन की मत्यु की घोषणा कर दज गई है। इस खबर को प्रेस ट्रस्ट ने भी अपने ट्विटर एकाउंट से ट्वीट किया है।

आपको बता शहाबुद्दीन दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद थे । और हत्या के मामले में सजा काट रहे थे। 24 अप्रैल को कोरोना से संक्रमित होने के बाद हालत गम्भीर होने पर दिल्ली के एक अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था । वेंटिलेटर पर थे शहाबुद्दीन जानकारी के अनुसार मोहम्मद शहाबुद्दीन वेंटिलेटर पर थे, हालत गंभीर होने के चलते उन्होंने आज दम तोड दिया।

इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार और जेल प्रशासन को आदेश दिया था कि वह पूर्व आरजेडी सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का इलाज करवाएं और निगरानी भी करें। मोहम्मद शहाबुद्दीन दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती थे।

20 अप्रैल को तिहाड़ जेल प्रशासन को बिहार के बाहुबली और RJD के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के कोरोना संक्रमित होने का पता तब लगा जब, 20 अप्रैल को उसकी हालत अचानक बिगड़ने लगी। जिस तरह के उसके शरीर में लक्षण नजर आए, उसके मद्देनजर कोरोना संक्रमण की जांच कराई गई। रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही शहाबुद्दीन को तुरंत तिहाड़ जेल के चिकित्सकों की निगरानी में दे दिया गया।

इससे पहले पिछले साल सितंबर में पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के पिता शेख मोहमद हसीबुल्लाह (90 वर्ष) का निधन हो गया था। उस वक्तर तिहाड़ में बंद पूर्व सांसद को पैरोल पर लाने की मंजूरी नहीं मिल पाई थी। हत्या के मामले में तिहाड़ जेल में आजावीन कारावास की सजा काट रहे पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के खिलाफ तीन दर्जन से अधिक आपराधिक मामले चल रहे हैं। 15 फरवरी 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बिहार की सीवान जेल से तिहाड़ लाने का आदेश दिया था।