You are here
Home > Politics

वरुण गांधी का ये वयान आलोचकों के मुँह पर करारा तमाचा है, कांग्रेस जॉइन करने के सवाल पर दिया ये जबाब..

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद वरुण गांधी ने कहा है कि पार्टी ने उनका और उनकी मां मेनका गांधी (केंद्रीय मंत्री) का हमेशा सम्मान किया है। ऐसे में उन्हें बीजेपी से किसी प्रकार का गिला-शिकवा नहीं है।

‘टेलीग्राफ’ में प्रकाशित इंटरव्यू में उन्होंने अपनी नई किताब ‘ए रूरल मैनिफेस्टोः रियलाइजिंग इंडियाज फ्यूचर थ्रू हर विलेजेज’ के बारे में बात की। कहा, “मैं नागरिकों के इतिहास और भारत में आंदोलनों पर किताब लिखना चाहता था, पर देश के भ्रमण के दौरान लगा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था अधिक चोट करने वाला विषय है। ऐसे में अकादमिक किताब लिखने के बजाय मैंने ऐसी पुस्तक लिखने का मन बनाया, जो लोगों के काम आ सके।”

आगे बोले, “ग्रामीण संकट को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता, पर आप किसी एक सरकार को इसके लिए नहीं कोस सकते। कई चीजें होती हैं, जो कि राज्य और केंद्र सरकार के सामने होती है।”

अपनी जिंदगी और राजनीतिक यात्रा को लेकर कहा, “मैं उस उम्र (29) में पार्टी का महासचिव बना, जब लोग उस बारे में सोचते भी नहीं। लेकिन मेरा मानना है कि एक संगठन व्यवक्ति विशेष और उसकी आकांक्षाओं से हमेशा बड़ा होता है। मेरा मुख्य उद्देश्य लोगों की सेवा था।”

क्या बीजेपी खेमे में पार्टी नेता उन्हें खतरा या मुश्किल के रूप में देखते हैं? इसके जवाब में वरुण ने कहा- इतने सालों में मेरे सामने कई चीजें सामने आई, पर मुझे कभी रोका नहीं गया। मैं इसके लिए शुक्रगुजार हूं। मेरी मां, जो कि कैबिनेट और एनडीए की सरकारों में मंत्री रहीं, उन्हें और मुझे सम्मान दिया गया और मुझे पार्टी से किसी प्रकार की शिकायत नहीं है।

कांग्रेस में शामिल होने की अफवाहों पर उन्होंने साफ किया, “मैं ट्रैक बदलने वालों में से नहं हूं, क्योंकि ये मुझे नहीं जंचता है। मेरे साथ कभी भी ऐसा नहीं होगा।”

Loading...

Leave a Reply

Top