Home > राष्ट्रीय > ओवैसी ने कहा- ‘एक दिन हिजाब पहनने वाली पीएम बनेगी’ BJP नेता कपिल मिश्रा ने दिया मुहतोड़ जवाब..

ओवैसी ने कहा- ‘एक दिन हिजाब पहनने वाली पीएम बनेगी’ BJP नेता कपिल मिश्रा ने दिया मुहतोड़ जवाब..

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि एक दिन हिजाब पहनने वाली लड़की भारत की प्रधानमंत्री बनेगी। उनका यह बयान कर्नाटक में जारी हिजाब विवाद के बीच आया है। आपको बता दें कि उडुपी के एक सरकारी कॉलेज में मुस्लिम छात्रों के एक समूह को हिजाब पहनने के कारण उनके क्लास में प्रवेश करने से रोक दिया गया था।

एआईएमआईएम चीफ ओवैसी ने रविवार को एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कहा कि हिजाब पहनकर महिलाएं कॉलेज जाएंगी, जिला कलेक्टर, मजिस्ट्रेट, डॉक्टर, व्यवसायी वगैरह बनेंगी।

एक रैली में लोगों को संबोधित करते हुए ओवैसी को वीडियो में यह कहते हुए सुना जा सकता है, “मैं इसे देखने के लिए जीवित नहीं हो सकता, लेकिन मेरे शब्दों पर ध्यान दें। एक दिन हिजाब पहनने वाली लड़की प्रधानमंत्री होगी।”

उन्होंने कहा, “अगर हमारी बेटियां फैसला करती हैं और अपने माता-पिता से कहती हैं कि वे हिजाब पहनना चाहती हैं, तो उनके माता-पिता उनका समर्थन करेंगे। देखते हैं कि उन्हें कौन रोक सकता है!”

ओवैसी के हिजाब वाली प्रधानमंत्री बनेगी के वयान लोग सोसल मीडिया पर जमकर प्रतिक्रिया दे रहे है। इसी कड़ी में BJP नेता कपील मिश्रा ने करारा जवाब दिया, मिश्रा ने कहा “कोई हिजाबी या नमाजी सात जन्म में भारत का PM नहीं बनने वाले।औवैसी के बाबरी ख्याल वहीं चारमीनार की दीवारों में टूट कर रह जाएंगे। मुस्लिम लड़कियों को मस्जिद जाने की , साथ नमाज पढ़ने की आज़ादी तो दो जरा”

क्या है हिजाब विवाद?
कर्नाटक हिजाब विवाद तब शुरू हुआ जब युवा मुस्लिम छात्राओं के एक समूह को हिजाब पहनने के कारण उडुपी जिले के एक सरकारी कॉलेज में प्रवेश नहीं करने दिया गया।

यह मुद्दा पूरे राज्य में फैल गया। कई कॉलेजों और स्कूलों ने इसी तरह के फरमान जारी किए। छात्रों के विरोधी समूहों ने शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पहनने के अधिकार के खिलाफ और विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। मुस्लिम लड़कियों का विरोध करने वालों ने भगवा स्कार्फ पहन रखा था और विचारधारा में टकराव कुछ इलाकों में हिंसक हो गया।

इस मुद्दे पर राष्ट्रीय राजनीतिक दलों द्वारा एक-दूसरे पर हमला करने के साथ विवाद और बढ़ गया। विरोध अब देश के विभिन्न हिस्सों में फैल गया है और मामला वर्तमान में उच्च न्यायालय में है।