Home > राष्ट्रीय > उन्नाव केस: पुलिस ने किया बड़ा खुलासा- मोबाइल नंबर नहीं दिया तो पानी में मिलाकर पिला दिया जहर

उन्नाव केस: पुलिस ने किया बड़ा खुलासा- मोबाइल नंबर नहीं दिया तो पानी में मिलाकर पिला दिया जहर

उत्तर प्रदेश के उन्नाव (Unnao Case) में बुधवार की शाम खेत में गई 3 नाबालिग लड़कियां बेहोशी की हालत में मिली थीं। इनमें से दो की मौत हो गई जबकि एक बच्ची की हालत गंभीर है। उन्नाव पुलिस (Unnao Police) ने मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए दो युवकों को गिरफ्तार किया है। इनमें से एक का नाम विनय उर्फ लंबू है जबकि दूसरा नाबालिग है। आईजी रेंज लक्ष्मी सिंह ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि मामला एकतरफा प्यार का है। लॉकडाउन के दौरान इसका पता चला था। मोबाइल नंबर न देने के चलते आरोपी विनय उर्फ लंबू ने पानी में कीटनाशक मिलाकर लड़की को पिला दिया।

आईजी लक्ष्मी सिंह ने बताया कि घटना से पहले सभी ने खेत में एकसाथ बैठकर नमकीन खाई। नमकीन खाने के बाद विनय ने प्रेम-प्रसंग में शामिल लड़की को गेहूं में डाला जाने वाला कीटनाशक मिला पानी पीने के लिए दिया जिसे बाकी लड़कियों ने भी पी लिया। आईजी ने बताया कि विनय ने बाकी लड़कियों को पानी पीने से मना किया था, लेकिन दोनों ने जबरदस्ती पानी पी लिया। मुंह से झाग निकलने के बाद दोनों लड़के वहां से भाग गए।

लखनऊ रेंज की आईजी लक्ष्मी सिंह ने बताया कि विनय ने लड़की से मोबाइल नंबर भी मांगा था, लेकिन लड़की ने वह भी देने से मना कर दिया था। विनय इस बात से बेहद नाराज था. इसलिए उसने पानी में कीटनाशक मिलाकर लड़की को पिला दिया. हालांकि वो सिर्फ एक ही लड़की को मारना चाहता था।

पुलिस के मुताबिक आरोपी विनय ने बताया कि वो जिस लड़की से प्रेम करता था वो अस्पताल में भर्ती है। उसने घटना वाले दिन अन्य दोनों लड़कियों से नमकीन भी मंगवाए थे. आरोपी ने एक ही लड़की को कीटनाशक मिला हुआ पानी पीने को दिया था. लेकिन उसकी बोतल से बाकी दोनों लड़कियों ने भी पानी पी ली। थोड़ी देर के बाद सभी लड़कियों के मुंह से झाग निकलने लगा। यह देखकर दोनों आरोपी घटनास्थल से फरार हो गए. 

पुलिस ने बताया कि फॉरेंसिक टीम को घटनास्थल से कीटनाशक की बोतल, खाली पानी की बोटल, नमकीन के खाली पैकेट्स और सिगरेट बट मिले थे।

मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए गांव में कई थानों की पुलिस लगाई गई है। पुलिस ने पूछताछ के लिए घर वालों को थाने पर बिठाया था। लेकिन ग्रामीण और राजनैतिक नेताओं के आक्रोश के बाद मृतक बच्ची काजल के पिता सूरज पाल को पुलिस ने छोड़ दिया। गांव पहुंचे सूरज पाल ने बताया कि उनके ऊपर किसी का कोई दबाव नहीं है। वह बस न्याय चाहते हैं।

Source: Navbharat Times