Home > राष्ट्रीय > BJP ने कोरोना को देखते हुए चुनावी रैलियों पर लगाई रोक, 500 लोगों से ज्यादा नहीं होंगे इकट्ठा

BJP ने कोरोना को देखते हुए चुनावी रैलियों पर लगाई रोक, 500 लोगों से ज्यादा नहीं होंगे इकट्ठा

बीजेपी ने सोमवार को घोषणा की है कि उसने कोरोना की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए, आगामी पश्चिम बंगाल चुनावों की अपनी सभी बड़ी रैलियों, जनसभाओं और कार्यक्रमों को रोकने का फैसला किया है। बीजेपी ने यह भी घोषणा की है कि पीएम मोदी सहित सभी केंद्रीय मंत्री छोटी-छोटी जनसभाएं करेंगे जहां 500 से अधिक लोग उपस्थित नहीं होंगे। ऐसी सभी बैठकें कोविड-19 से संबंधित सभी दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करेंगी।

बीजेपी ने पूरे बंगाल में इन छोटी बैठकों में 6 करोड़ मास्क और सैनिटाइजर बांटने का भी लक्ष्य रखा है। ‘अपना बूथ – कोरोना मुक्त’ लॉन्च करते हुए, बीजेपी पूरे भारत में सभी राज्यों में कोविड हेल्पडेस्क और हेल्पलाइन नंबर शुरू करने की तैयारी कर रही है। भारत को 1 करोड़ टीकाकरण पूरा करने में सबसे तेज बनाने में पीएम मोदी के प्रयासों की सराहना करते हुए, बीजेपी ने अपने सभी सदस्यों से राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान में केंद्र की मदद करने का आग्रह किया है। इसके अलावा, 115 एलईडी स्क्रीन बीजेपी द्वारा पूरे चुनावी राज्य में लगाए जाएंगे।

गौरतलब है कि बंगाल विधानसभा चुनाव को देखते हुए, पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, जेपी नड्डा, ममता बनर्जी, अभिषेक बनर्जी, राहुल गांधी और अधीर रंजन चौधरी जैसे शीर्ष नेता बड़े पैमाने पर रैलियां और रोड शो कर रहे हैं। इन नेताओं द्वारा साझा किए गए विज़ुअल्स में भारी भीड़ दिखाई देती है, जिसमें न सामाजिक दूरी का पालन होता है और न ही कोई मास्क पहनता है। विशेषज्ञों ने तो इन रैलियों में सामाजिक दूरी की कमी पर चिंता व्यक्त की ही है, वही कई लोगों ने भी संक्रमण के बीच इन राजनेताओं की गलत संदेश भेजने के लिए आलोचना की है।

वही राहुल गांधी ने अपनी शेष सभी जनसभाओं को रद्द कर दिया है जिसके बाद, कांग्रेस के बंगाल अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने फैसला किया कि पार्टी का कोई भी स्टार प्रचारक कोविड-19 के मद्देनजर कोई भी बड़ी जनसभा नहीं करेगा। कांग्रेस की तरह, ममता बनर्जी ने भी कोलकाता में 26 अप्रैल को चुनाव प्रचार के अंतिम दिन “प्रतीकात्मक” बैठक को छोड़कर, कोलकाता में कोई और प्रचार नहीं करने का फैसला किया है।